Breaking News:

अगली खबर

राजनीति तृणमूल ने लगाया आरोप पीएम मोदी के हेलीपैड के लिए काटे गए पेड़ , भाजपा ने किया पलटवार कहा -आरोप बेबुनियाद

Share

राजनीति खेला होबे गाने का मतलब हिंसा नहीं जन मुद्दों को लेकर आवाज बुलंद करना है

हुगली : पश्चिम बंगाल में राम बनाम मां दुर्गा की सियासत के बाद अब तृणमूल कांग्रेस के बहुचर्चित गाने खेला होबे एई माठे खेला होबे को लेकर भी सियासत गरमाते चली जा रही है । हाल ही में इस गाने पर प्रश्न उठाते हुए भाजपा नेता राजीव बनर्जी ने कहा था कि लोकतंत्र में सभी राजनीतिक दलों का अधिकार है कि वह जनता के लिए आवाज़ उठाएं । 

लेकिन पश्चिम बंगाल में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी विरोधियों की आवाज दबाना चाहती है ।

इसलिए एक गाने को वायरल कर लोगों के मन में डर पैदा करना चाहती है । उन्होंने कहा कि खेला हो बे क्या खेला होबे का मतलब क्या हिंसा फैलाना है । क्या खूनी राजनीति करना है। इसी सवाल का जवाब देते हुए तृणमूल कांग्रेस के जयहिंद वाहिनी के उपाध्यक्ष बाबू नंद प्रसाद ने कहा कि खेला होवे का कतई मतलब नहीं कि हिंसा फैलाया जाए, लोकतंत्र में सबको समान अधिकार है अपनी बात रखने का ।

भारतीय जनता पार्टी इस गाने का गलत मतलब निकाल कर दुष्प्रचार करने में लगी है, असल में उनके पास जन मुद्दों को लेकर वोट मांगने के लिए कुछ नहीं है, क्योंकि 2014 में केंद्र की सत्ता संभालने के बाद से पीएम मोदी ने जो भी वायदे किए थे वह सब धरातल पर जुमले साबित हुए । पीएम मोदी ने अच्छे दिन का वादा किया था लेकिन आज जनता के बुरे से बुरे दिन का दौर चल रहा है। जबकि भाजपा के अच्छे दिन आ गए ।

आज महंगाई अपने चरम स्तर पर है गैस, डीजल-पेट्रोल आवश्यक वस्तुओं के दाम आसमान छू रहे हैं, लेकिन भारतीय जनता पार्टी के जनसभा मंच से इन मुद्दों पर कोई चर्चा नहीं होती सिर्फ धर्म की आड में भाजपा सत्ता की सीढ़ी चढ़ना चाहती है , तो यह संभव नहीं, पहले देश की जनता ने नोटबंदी, जीएसटी और बेरोजगारी को लेकर झेला, तो अब बेतहाशा बढ़ती पेट्रोल-डीज़ल की कीमत के वजह से सभी आवश्यक वस्तुओं के दाम आसमान छूने लगे हैं । इन सब मुद्दों पर पीएम ने कोई चर्चा नहीं की ।

असल में उनका काम सिर्फ जनता को भ्रमित करके वोट पाना है उन्हें जनता के दुख दर्द से कोई लेना-देना नहीं, आगे उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में भारतीय जनता पार्टी का अपना कोई जनाधार नहीं इसलिए भाजपा तृणमूल विधायकों की खरीद-फरोख्त में लगी है।  ताकि उनके जरिए बंगाल की सत्ता हासिल की जा सके लेकिन यह साफ है कि बंगाल की सत्ता पाना इतना आसान नहीं भले भाजपा अपना एड़ी चोटी का जोर लगा दे पर बंगाल की जनता मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को तीसरी बार मुख्यमंत्री के तौर पर देखना पसंद करती है, इसलिए प्रचंड मत से जीतकर ममता बनर्जी तीसरी बार बंगाल की बागडोर संभाल लेगी ।

पश्चिम बंगाल हुगली जिला से संवाददाता जय चौधरी



Related Post

Comment

Leave a comment